Disable Preloader
Logo

श्री पी के सिन्हा
अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक
(अतिरिक्त प्रभार)

कंपनी की जानकारी
  • महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड
    (कोल इंडिया लिमिटेड की एक मिनीरत्न सहायक कंपनी)
  • जी एस टी आई एन:21AABCM5188P1Z3
  • सी आई एन:U10102OR1992GOI003038
  • जाग्रति विहार, बुर्ला, सम्बलपुर--768020, ओडिशा

एमसीएल से कोयला कैसे प्राप्‍त करें

एमसीएल से कोयला कैसे प्राप्‍त करें

महानदी कोलफील्‍ड्स लिमिटेड ,तालचेर अंचल ,जिला-अनुकुल एवं ईब वैली अंचल जिला-झारसुगुड़ा/सुन्‍दरगढ़ ,ओडि़शा में ग्रुप बीएलएफ,ग्रुप सीएलएफ, ग्रुप डीएलएफ,ग्रुप ई और ग्रुप एफ का उत्‍पादन करता है।महानदी कोलफील्‍ड्स लिमिटेड(एमसीएल) कोयल की बिक्री सडुक,रेल और रेल –सह-समुद्र(पारादीप) द्वारा उपभोक्‍ताओं से लिंक के लिए करता है। अप्रैल 2005 से ई ऑक्‍सन के शुरूआत के पश्‍चात उपभोक्‍ता/गैर उपभोक्‍ता/व्‍यापारी इत्‍यादि अपनी जरूरतों एवं इच्छित स्रोत से कोयला प्रापत करने के लिए बोली(दाव) में भाग ले सकते हैं। वर्तमान में ओएसएस के तहत कोयले की विक्री रूकी है।


कोर सेक्‍टर लिंकेज :

इस्‍पात मंत्रालय और कोयला एवं खान मंत्रालय ,नई दिल्‍ली के सटैंडिंग लिंकेज कमिटि (लांग टमै) द्वारा कोर सेक्‍टर के ईकाइयों यथा विद्युत,कैप्टिव पावर र्प्‍लांट,इस्‍पात,सीमेंट,पेपर,अल्‍युमिनियम और उर्वरक के लिए लंबी अवधि का लिंकेज स्‍वीकृत किया है। स्‍टैंडिंग लिंकेज कमिटि (शार्ट टमै) द्वारा तिमाही रूप से किये गये आबंटन के आधार पर कोयला रिलिज किया जाता है । 


स्‍पॉंज आयरन ईकाइयों के लिए लिंकेज :

स्‍पांज आयरन इकाइयों के लिए लिंकेज की स्‍वीकृति इस्‍पात मंत्रालय ,नई दिल्‍ली द्वारा कोयला एवं खान मंत्रालय ,नई दिल्‍ली से सूचना प्राप्ति के पश्‍चात स्‍वीकृति प्रदान की गई, सीआईएल, कोलकाता द्वारा आबंटन के आधार पर कोयला रिलिज किया जाता है।


नन कोर सेक्‍टर लिंकेज

दिनांक 1.1.2000 से कोयला के पूर्णत: डिरेगुलेशन के चलते लिंकेज/ स्‍पान्‍सरशीप की प्रणाली नई कोयला बिक्री नीति के तहत अलग हो गई है।

वर्तमान वैध लिंग इकाई एफएसए के द्वारा एमपीक्‍यु (गत तीन वर्षों में बुक किये गये सर्वोत्‍तम वैध आदेश) के सीमा तक कोयला प्राप्‍त कर सकता है। 27 वैध लिंक्‍ड इकाईयों में से 14 इकाइयों ने एमसीएल से कोयला प्राप्‍त करने के लिए एफएसए पर हस्‍ताक्षर किये हैं।

उनकी बढ़ी हुई आवश्‍यकताओं या नई इकाई ई-ऑक्‍सन के द्वारा कोयले की खरीद कर सकते हैं।


ई-आक्‍सन प्रणाली


कोयले के वितरण में अधिक पारदर्शिता लाने एवं मांग तथा आपूर्ति के आधार पर बाजार की शक्तियों द्वारा निर्धारित कोयला उत्‍पादन का सही मूल्‍य प्राप्‍त करने हेतु कोई भी व्‍यक्ति /उपभोक्‍ता/व्‍यापारी इसमें भाग ले सकते हैं। कोयला मंत्रालय ने मार्च/अप्रैल,2005 से कोयले की बिक्री इलेक्‍ट्रानिक आक्‍सन के माध्‍यम से करने की शुरूआत की है।

दोनों शर्तों को पूरा करने के पश्‍चात भविष्‍य के क्रेता को ई-आक्‍सन में भाग लेने के लिए आक्‍सनिंग एजेन्‍सी द्वारा पासवर्ड नम्‍बर दिया जाएगा जिससे ई-आक्‍सन में भाग लेने की सुगमता के लिए प्रदान करेगी।

भविष्‍य के क्रेता/बोली लगानेवालों को अपने को ऑक्‍सनिंग एजेन्‍सी एमएसटीसी/मेटल जंक्‍शन के तहत ई-आक्‍सन में भागीदारी के लिए दी गई शर्त के अनुसार निर्धारित पंजीकरण फीस का भुगतान कर पंजीकृत करना होगा।

(I)(ii)    निबंधन एवं शर्तों के अनुसार बोली लगानेवाली मात्रा के लिए उनको ईएमडी जमा करना होगा।

(ii)    दोनों शर्तों को पूरा करने के पश्‍चात भविष्‍य के क्रेता को ई-ऑक्‍सन में भाग लेने के लिए ऑक्‍सनिंग एजेन्‍सी द्वारा पासवर्ड नम्‍बर आदि दिया जाएगा जिससे ई-आक्‍सन में भाग लेने की सुगमता होगी।

(iii)    असफल बोली लगानेवालों को उनके द्वारा जमा किया गया ईएमडी को लौटा दिया जाएगा।

(iv)    सफल बोली लगानेवालों के ईएमडी को कोयला मूल्‍य में समंजित कर दिया जाएगा।

(v)    सफल बोली लगानेवाले जो कोयला का मूल्‍य जमा करने में असफल रहेंगे तथा निबंधन एवं शर्तों के अनुसार कोयला नहीं उठायेंगे उनके द्वारा जमा किया गया ईएमडी एमसीएल द्वारा जब्‍त कर लिया जाएगा।/P>

ई- ऑक्‍सन की शुरूआत के पश्‍चात,वैध लिक्‍ड गैर कोर सेक्‍टर उपभोक्‍ता भी ई- ऑक्‍सन में भाग ले सकते हैं जहॉं अन्‍य क्रेता/व्‍यापारी भाग लेते हैं। 

तो भी वैध लिक्‍ड गैर कोर सेक्‍टर उपभोक्‍ता जो ई- ऑक्‍सन में भाग नहीं लिये हैं उन्‍हें मासिक औसत वजन का कोयला ई- ऑक्‍सन मूल्‍य पर एमपीक्‍यू/एफएसए मात्रा की सीमा तक कम समय के लिए दिया जाएगा।

केवल ई- ऑक्‍सन प्रचलन में है और एमसीएल प्रत्‍येक माह 2.00 लाख टन से अधिक कोयला ईंट बनानेवालों, क्षुद्र उपभोक्‍ताओं ,व्‍यापारियों और अन्‍य गैर कोर सेक्‍टर उद्योगों की मांग को पूरा करने के लिए उपलब्‍ध कराता है । यह एमपीक्‍यू/एफएसए के अलावे है।

कोयला मंत्रालय ने 0.50 लाख टन कोयला प्रतिवर्ष ओडि़शा राज्‍य को क्षुद्र एवं अति लघु उपभोक्‍ताओं को राज्‍य द्वारा निर्धारित एक नोडल एजेन्‍सी के माध्‍यम से बिक्री/वितरण हेतु आबंटित किया है। इसी तरह भारत सरकार ने मेसर्स एनसीसीएफ लिमिटेड को इसी तरह के कार्य के लिए नियुक्‍त किया है और एमसीएल से वार्षिक 3.72 लाख टन आबंटित किया है।


कोयले के विक्रय पर भुगतान


सड़क विक्रय आदेश की बुकिंग के लिए उपभोक्‍ता महाप्रबंधक(विक्रय एवं विपणन) एमसीएल, बुर्ला, संबलपुर के कार्यालय में ‘महानदी कोलफील्‍ड्स लिमिटेड’ कोल सेल्‍स रियलाइजेशन एकाउन्‍ट के पक्ष में संबलपुर में देय डिमान्‍ड ड्राफ्ट के साथ ही पार्टी का नामख्‍ बैंक प्रमाणपत्र (डिबिट एडवाइस) ड्राफ्ट जारी करनेवाले बैंक से लेकर जमा करे।

लिंकेज के तहत रेल कार्यक्रम या तो अग्रिम पूर्ण भुगतान या बैंक गारंटी/लेटर ऑफ क्रेडिट पर जारी किया जाता हे।/ तो भी पार्टी को बीजी के तहत बुक किये गये रेक के लिए आर आर/कोल बिल प्रस्‍तुत किये जाने के 48 घंटों के अंदर डिमान्‍ड ड्राफ्ट जमा करना है। डिमान्‍ड ड्राफ्ट ‘महानदी कोलफील्‍ड्स लिमिटेड’ कोल सेल्‍स रियलाइजेशन एकाउन्‍ट पार्टी का नाम तथा कोलकाता पर देय होना चाहिए और इसे महाप्रबंधक(विक्रय ) एमसीएल ,15 पार्क स्‍ट्रीट,कोलकाता में जमा किया जाना चाहिए।

एमसीएल से ई- ऑक्‍सन या कोयला बिक्री से संबंधित किसी अन्‍य मामले की जानकारी के लिए महाप्रबंधक(विक्रय एवं विपणन), एमसीएल , बुर्ला, संबलपुर से संपर्क करें।

ENG